सुकून मिलता है दो लफ्ज़ कागज़ पर उतार कर,
चीख भी लेता हूँ और आवाज़ भी नहीं होती

#tapish Khandelwal