ज़हनीयत पर शक़ लाज़मी नहीं जनाब,
कभी बैठो आशिकों की महफिल में तो सुनना
हमारी वफा के किस्से ही हमारी पहचान हैं ॥