राज़ खोल देते हैं नाजुक से इशारे अक्सर,कितनी खामोश मोहब्बत की जुबान होती है।